गुजरात में जीका वाइरस पर गरमाई सियासत, क्या राज्य सरकार ने वाइब्रैंट गुजरात के लिए छिपाई जानकारी?

गुजरात में जीका वाइरस पर गरमाई सियासत, क्या राज्य सरकार ने वाइब्रैंट गुजरात के लिए छिपाई जानकारी?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने गुजरात में जीका वाइरस से पीड़ित 3 लोगों की पुष्टि की तो अब इस पर सियासत भी गरमा सकती है। ऐसी चर्चाएं हैं कि गुजरात और केंद्र सरकार ने सूबे के सबसे चर्चित वैश्विक कार्यक्रम 'वाइब्रेंट गुजरात' को देखते हुए इस सूचना को छिपाया।

'वाइब्रेंट गुजरात समिट' में सैकड़ों विदेशी मेहमान, विदेशी प्रतिनिधि और राजदूतों को शामिल होना था। ऐसा कहा जा रहा है कि विदेशी मेहमानों में जीका को लेकर भय न फैल जाए, इसे देखते हुए सूचना को छिपाया गया।

वाइब्रेंट गुजरात सम्मेलन 2017 में 100 से अधिक देश, 12 सहयोगी देश और 2700 से अधिक विदेशी अतिथियों के अलावा 9 नोबल पुरस्कार विजेता भी शामिल हुए थे। पिछले एक सालों से अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, ताइवान, साउथ कोरिया, मलयेशिया, इंडोनेशिया और कनाडा उन लोगों के लिए ट्रैवल अडवाइजरी जारी कर रहे हैं जो जीका प्रभावित देशों में जा रहे हैं।

जनवरी और फरवरी 2017 के बीच अहमदाबाद के 3 लोगों के जीका वाइरस से प्रभावित होने की बात सामने आई थी। नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वाइरॉलजी, पुणे ने भी इसकी पुष्टि की थी। बाद में 26 मई को WHO ने भी इस खबर को कन्फर्म किया। एक पूर्व स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि राज्य सरकार लोगों के स्वास्थ्य को गंभीरता से नहीं ले रही है।

उन्होंने कहा कि अगर इम मामले में पुष्टि नहीं भी हुई थी तो सरकार को एक हेल्थ अलर्ट जारी करना चाहिए था। उनके मुताबिक सामान्य स्थिति में ऐसा अलर्ट अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन की तरफ से आना चाहिए था पर निगम को भी अंधेरे में रखा गया। इस मामले से उस घटना की भी याद आ गई जिसमें बर्ड फ्लू के खतरे को भी जानबूझकर दबा कर रखा गया।

उनके मुताबिक अगर जीका रिपोर्ट्स समिट के दौरान सामने आ गईं होतीं तो गुजरात सरकार के प्रयासों पर पानी फिर सकता था। वाइब्रेंट गुजरात में सरकार ने करीब 30 लाख करोड़ रुपये के 24000 से अधिक एमओयू साइन किए थे। पूर्व स्वास्थ्य अधिकारी के मुताबिक, 'कौन जानता है कि ऐसे कई और मामले छिपाकर रखे गए हों और केवल 3 मामलों की रिपोर्ट की गई हो। यह काफी गंभीर मामला है। समिट के दौरान आने वाले विदेशी मेहमान भी संक्रमित हो सकते थे। आप (सरकार) लोगों की जिंदगी के साथ खेल रहे हैं।'

जीका वाइरस के संक्रमण की पुष्टि होने के बाद अहमदाबाद के लोग इसे लेकर चिंतित हैं। हालांकि राज्य सरकार ने साफ कर दिया है कि सभी 3 केसों को सफलतापूर्वक ठीक कर दिया गया है। सरकार ने कहा है कि अब गुजरात में जीका वाइरस को लेकर कोई खतरा नहीं है। यह पूछे जाने पर कि सरकार ने उस समय इसकी जानकारी क्यों नहीं दी, स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि यह कोई सीक्रिट नहीं था। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने संसद के पिछले सत्र (मार्च) के दौरान ही इसकी जानकारी दे दी थी।





ताज़ा खबरे

आम आदमी पार्टी को मिला दफ्तर खाली करने के लिए कारण बताओ नोटिस

कानपुर: डीपीएस के छात्र ने स्कूल में प्रताड़ना के चलते किया सुसाइड का प्रयास, लिखा- मैं टेरेरिस्ट नहीं

श्रीलंका: बौद्ध भिक्षु के नेतृत्व में भीड़ ने किया रोहिंग्या शरणार्थियों पर हमला

असम में दो से ज्यादा बच्चे वालों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी, नहीं लड़ सकेंगे स्थानीय चुनाव

रोहिंग्या संकट पर सू ची ने तोड़ी चुप्पी, कहा- बेगुनाहों के बेघर होने का दुख

रोहिंग्या मुसलमानों के जनसंहार के विरोध में आज पार्लियामेंट मार्च

रोहिंग्या मुसलमानों को वापस भेजने की मोदी सरकार की योजना का SC में विरोध करेगा मानवाधिकार आयोग

पहलू खान के बेटे ने कहा- पुलिस ने मुझसे पहचान तक नहीं करवाई और आरोपियों को दे दी क्लीन चिट

रोहिंग्या मुस्लिमों के हक के लिए 16 सितंबर को पार्लियामेंट मार्च

रोहिंग्या मुसलमानों पर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामा केंद्र सरकार ने किया होल्ड, कहा करेगी बदलाव

Copyright © Live All rights reserved

About Dainiksurya | Contact Us | Editorial Team | Careers | www.dainiksurya.com. All rights reserved.