सर्वे: नोटबंदी ने छीनी 15 लाख लोगों की नौकरियाँ, 60 लाख से ज्‍यादा रोटी के ल‍िए परेशान

सर्वे: नोटबंदी ने छीनी 15 लाख लोगों की नौकरियाँ, 60 लाख से ज्‍यादा रोटी के ल‍िए परेशान

एक सर्वे में यह खुलासा हुआ है कि नोटबंदी के बाद भारत में लगभग 15 लाख लोगों को नौकरियां गंवानी पड़ी हैं। अगर एक कमाऊ शख्स पर घर के चार लोग आश्रित हैं तो इस लिहाज से पीएम नरेंद्र मोदी के एक फैसले से 60 लाख से ज्यादा लोगों को रोटी के लिए परेशान होना पड़ा है।

सेन्टर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनोमी (सीएमआईई) ने सर्वे में त्रैमासिक वार नौकरियों का आंकड़ा पेश किया है। सीएमआईई के कंज्यूमर पिरामिड हाउसहोल्ड सर्वे से पता चलता है कि नोटबंदी के बाद जनवरी से अप्रैल 2017 के बीच देश में कुल नौकरियों की संख्या घटकर 405 मिलियन रह गई थी जो कि सितंबर से दिसंबर 2016 के बीच 406.5 मिलियन थी। यानी नोटबंदी के बाद नौकरियों की संख्या में करीब 1.5 मिलियन अर्थात 15 लाख की कमी आई।

देशभर में हुए हाउसहोल्ड सर्वे में जनवरी से अप्रैल 2016 के बीच युवाओं के रोजगार और बेरोजगारी से जुड़े आंकड़े जुटाए गए थे। इस सर्वे में कुल 1 लाख 61 हजार, एक सौ सड़सठ घरों के कुल 5 लाख 19 हजार, 285 युवकों का सर्वे किया गया था। सर्वे में कहा गया है कि तब 401 मिलियन यानी 40.1 करोड़ लोगों के पास रोजगार था।

यह आंकड़ा मई-अगस्त 2016 के बीच बढ़कर 403 मिलियन यानी 40.3 करोड़ और सितंबर-दिसंबर 2016 के बीच 406.5 मिलियन यानी 40.65 करोड़ हो गया। इसके बाद जनवरी 2017 से अप्रैल 2017 के बीच रोजगार के आंकड़े घटकर 405 मिलियन यानी 40.5 करोड़ रह गए। मतलब साफ है कि इस दौरान कुल 15 लाख लोगों की नौकरियां खत्म हो गईं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आठ नवंबर 2016 को लागू हुई नोटबंदी का व्यापक प्रभाव इन महीनों में पड़ा है। हालांकि, रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सितंबर से दिसंबर 2016 में खत्म हुई तिमाही में भी नोटबंदी के आंशिक प्रभाव पड़े हैं। सर्वे रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जनवरी 2016 से अक्टूबर 2016 तक श्रमिक भागीदारी 46.9 फीसदी थी जो फरवरी 2017 तक घटकर 44.5 फीसदी, मार्च तक 44 फीसदी और अप्रैल 2017 तक 43.5 फीसदी रह गई। यानी कल-कारखानों और उद्योगों में आई मंदी की वजह से श्रमिकों को काम नहीं मिले।





ताज़ा खबरे

आम आदमी पार्टी को मिला दफ्तर खाली करने के लिए कारण बताओ नोटिस

कानपुर: डीपीएस के छात्र ने स्कूल में प्रताड़ना के चलते किया सुसाइड का प्रयास, लिखा- मैं टेरेरिस्ट नहीं

श्रीलंका: बौद्ध भिक्षु के नेतृत्व में भीड़ ने किया रोहिंग्या शरणार्थियों पर हमला

असम में दो से ज्यादा बच्चे वालों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी, नहीं लड़ सकेंगे स्थानीय चुनाव

रोहिंग्या संकट पर सू ची ने तोड़ी चुप्पी, कहा- बेगुनाहों के बेघर होने का दुख

रोहिंग्या मुसलमानों के जनसंहार के विरोध में आज पार्लियामेंट मार्च

रोहिंग्या मुसलमानों को वापस भेजने की मोदी सरकार की योजना का SC में विरोध करेगा मानवाधिकार आयोग

पहलू खान के बेटे ने कहा- पुलिस ने मुझसे पहचान तक नहीं करवाई और आरोपियों को दे दी क्लीन चिट

रोहिंग्या मुस्लिमों के हक के लिए 16 सितंबर को पार्लियामेंट मार्च

रोहिंग्या मुसलमानों पर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामा केंद्र सरकार ने किया होल्ड, कहा करेगी बदलाव

Copyright © Live All rights reserved

About Dainiksurya | Contact Us | Editorial Team | Careers | www.dainiksurya.com. All rights reserved.