RBI को नहीं मिल रहीं 500, 1000 के नोट गिनने वाली मशीनें!

RBI को नहीं मिल रहीं 500, 1000 के नोट गिनने वाली मशीनें!

नोटबंदी से 500 रुपये और 1000 रुपये के पुराने नोट कितने वापस आए यह जानने के लिए अभी आपको और इंतजार करना पड़ेगा। दरअसल, रिजर्व बैंक के पास नोट गिनने और नकली नोट छांटने वाली मशीनें नहीं हैं।

आरबीआइ ने ऐसी मशीनें लीज पर लेने को टेंडर भी जारी किया है, लेकिन अब तक कोई सप्लायर ये मशीनें मुहैया कराने को आगे नहीं आया है। यही वजह है कि आरबीआइ बार-बार इस टेंडर की तारीख आगे बढ़ा रहा है।

आरबीआइ नोट गिनने और नकली नोट छांटने के लिए जिस मशीन का इस्तेमाल करता है उसका नाम- करेंसी वेरिफिकेशन एंड प्रोसेसिंग सिस्टम (सीवीपीएस) है। आरबीआइ को ऐसी सीवीपीएस मशीन की जरूरत है जो एक सेकेंड में कम से कम 18 नोटों की गिनती करे और उनमें अगर कोई नकली या कटा-फटा नोट है तो उसे छांटकर अलग करे।

आरबीआइ ने 18 सीवीपीएस मशीनें खरीदने के लिए 12 मई 2017 को वैश्रि्वक टेंडर जारी किया था और इसकी अंतिम तिथि दो जून रखी। हालांकि जब आरबीआइ के मानकों के अनुरूप सप्लायर नहीं आए तो आरबीआइ ने अंतिम तिथि को बढ़ाकर 16 जून कर दिया। इसके बाद आरबीआइ ने आखिरकार 22 जुलाई को यह टेंडर रद कर पुन: नया टेंडर जारी किया, जिसकी अंतिम तिथि सात अगस्त रखी गयी है।

12 जुलाई को आरबीआइ गवर्नर उर्जित पटेल और डिप्टी गवर्नर ने संसद की वित्त मामलों संबंधी समिति को सूचित किया था कि रिजर्व बैंक 66 मशीनें लगाकर नोटबंदी के दौरान जमा हुए पुराने नोटों की जांच कर रहा है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि इनमें जाली नोट कितने थे। यह काम पूरा होने के बाद ही आरबीआइ बता पाएगा कि नोटबंदी से कितने नोट सिस्टम में वापस आए।

उनका यह भी कहना था कि आरबीआइ ने और मशीनें लीज पर लेने को भी टेंडर निकाला है। इसलिए नोटबंदी के दौरान जमा हुए नोटों की संख्या बताने में वक्त लग सकता है।

इस बीच विपक्षी सदस्यों ने बृहस्पतिवार को संसद में यह मुद्दा उठाते हुए सरकार से पूछा कि नोटबंदी के दौरान जमा हुए 500 रुपये और 1000 रुपये के पुराने नोट की संख्या का पता कब चलेगा। कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ने सरकार पर नोटबंदी के दौरान जमा हुए नोटों की संख्या छुपाने का आरोप भी लगाया। कांग्रेस नेता के वी थॉमस ने कहा कि संसदीय समिति जब आरबीआइ गवर्नर से पूछती है तो उनका जवाब होता है कि नोटों की गिनती की जा रही है। आखिर क्या वजह है कि सरकार नोटों की संख्या छुपा रही है।

सरकार ने 8 नवंबर को नोटबंदी का ऐलान किया था। माना जाता है कि उस समय बंद किए गए 500 रुपये और 1000 रुपये के नोट करीब 15 लाख करोड़ रुपये की राशि के थे।





ताज़ा खबरे

आम आदमी पार्टी को मिला दफ्तर खाली करने के लिए कारण बताओ नोटिस

कानपुर: डीपीएस के छात्र ने स्कूल में प्रताड़ना के चलते किया सुसाइड का प्रयास, लिखा- मैं टेरेरिस्ट नहीं

श्रीलंका: बौद्ध भिक्षु के नेतृत्व में भीड़ ने किया रोहिंग्या शरणार्थियों पर हमला

असम में दो से ज्यादा बच्चे वालों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी, नहीं लड़ सकेंगे स्थानीय चुनाव

रोहिंग्या संकट पर सू ची ने तोड़ी चुप्पी, कहा- बेगुनाहों के बेघर होने का दुख

रोहिंग्या मुसलमानों के जनसंहार के विरोध में आज पार्लियामेंट मार्च

रोहिंग्या मुसलमानों को वापस भेजने की मोदी सरकार की योजना का SC में विरोध करेगा मानवाधिकार आयोग

पहलू खान के बेटे ने कहा- पुलिस ने मुझसे पहचान तक नहीं करवाई और आरोपियों को दे दी क्लीन चिट

रोहिंग्या मुस्लिमों के हक के लिए 16 सितंबर को पार्लियामेंट मार्च

रोहिंग्या मुसलमानों पर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामा केंद्र सरकार ने किया होल्ड, कहा करेगी बदलाव

Copyright © Live All rights reserved

About Dainiksurya | Contact Us | Editorial Team | Careers | www.dainiksurya.com. All rights reserved.